Sunday, November 21, 2010

बनना था मोती मुझको.....

बनना था मोती मुझको ,
एक सीप कभी न बन पाया ||

वो रक्तिम  सी  पर नीर  सही,
पर रक्त कभी न बन पाया ||
                                बनना था मोती मुझको.....

एक ज्वाला सी ये दुनिया है |
मै आग कभी न बन पाया ||
                                बनना था मोती मुझको.....