Wednesday, July 14, 2010

"इंतजार "

आँखों में इंतजार भरा है ,
खुदा करे वो आ जाये |
कुछ मुद्दतें ख्वाब है ,
उन्हें इसकी खबर हो जाये ||

गुजरे गया वक्त ,
भर गया हर गम ,
इस गम हो कुरेद कर ,
जख्म का दर्द दे जाये |
कुछ मुद्दतें ख्वाब है ,
उन्हें इसकी खबर हो जाये ||

राह तकते है जेठ की धूप में ,
गर्म हवाओं में एक उनका नाम आ जाये |
भरी धूप में दिल रोता कर याद उनको ,
ऐसी धूप में गर उनका दीदार हो जाये |
कुछ मुद्दतें ख्वाब है ,
उन्हें इसकी खबर हो जाये ||

मन्नते करते है साथ जियेंगे ,
खुदा को इस बात की खबर हो जाये |
रोते हैं हर रात जिन्हें याद करके ,
उन्हें भी हमारे प्यार की नजर लग जाये |
कुछ मुद्दतें ख्वाब है ,
उन्हें इसकी खबर हो जाये ||

5 comments:

  1. मन्नते करते है साथ जियेंगे ,
    खुदा को इस बात की खबर हो जाये |
    रोते हैं हर रात जिन्हें याद करके ,
    उन्हें भी हमारे प्यार की नजर लग जाये |
    कुछ मुद्दतें ख्वाब है ,
    उन्हें इसकी खबर हो जाये ||
    Nihayat sundar!

    ReplyDelete
  2. जिनके लिए रोते हैं उन्हे कभी प्यार की नजर नही लगती है

    ReplyDelete
  3. प्यार है तो प्यारी नजर ही लगेगी | यही है प्यार की प्यारी सी नजर
    जिसमे हमेशा उनका अच्छा ही सोंचते है कभी भी १ पल ले लिए भी बुरा न सोंचें ...............

    ReplyDelete
  4. बहुत समय बाद पढने को मिली आपकी भावपूर्ण कविता .........हमेशा की ही तरह एक सुन्दर अभीव्यक्ति.......
    If u love something let it go,
    IF it comes back to u it's your
    If it dosen't, it never was ..............

    ReplyDelete