Saturday, May 28, 2011

LIFE IS A RACE

ऐ राही  मत पूछ किस ओर जाना है || 


ये रुख है जिन्दगी का ,
बस चलते जाना है ,
कभी आन्धि आये ,
या  कभी तूफान ,
कहीं है मन्जिल ,
तो  कहीं कब्रिस्तान ,
तू मुसाफ़िर है ,
जिन्दगी सफ़र है ,
बस सफ़र के अन्त तक मन्जिल पा जाना है ||
                                                        ऐ  राही मत पूछ किस  ओर जाना है ||

तकदीर पर बस हक नही किसी का ,
तकदीर  भरोसे  किसे  क्या पाना है ,
जीना सभी  को  है  बस  हिम्मत  चाहिये ,
वर्ना ऐसे जिन्दगी से तो बेहतर मर जाना  है , 
तुम  तो  कठपुतली  हो  मुसाफ़िर् ,
तुम्हे  किसी और के इसारे समझ जाना  है  |
                                                       ऐ राही मत पूछ किस ओर जाना है || 

बस तकदीर नही हौसला भी चाहिये ,
जिन्दगी तो उसने दे दी, जीने का हौसला भी चाहिये ,
कभी कठनाइयो ने गर् पैर  पसार लिये , 
तो  इन कदमो को, नही  लडखडाना  है ,
बस  चाह चाहिये,  मन्जिल साफ़् नजर आयेगी ,
वर्ना  केवल,  मृगतृष्णा कि प्यास नजर आयेगी ,
                                                           ऐ   राही  मत पूछ किस  ओर  जाना  है  || 

हौसला रख, किसी  को भरोसा है तुझ पर ,
तेरी मेहनत एक दिन जरुर  रंग लायेगी ,
सफ़र् लम्बा है, सब कुछ सहते  जाना  है ,
जिन्दगी  को  जिन्दादिली  से  जीते जाना है  |
                                                       ऐ राही मत पूछ किस ओर जाना है ||
                                                                               
                                                                                             श्रीकुमार गुप्ता




No comments:

Post a Comment