Wednesday, November 23, 2011

INTENTION

                                                                 आरजू

है बस मेरी एक ख्वाहिश,
रब से ज्यादा पूजने कि ख्वाहिश,

बोली तून तोडी मुझसे, आशा का दीप चुराया है | 
मिले तुझे सब दुआ करूँ  मै,
जो अब तक ना मिल पाया है | 
तमन्ना है बस खुश रहे तू,
                                                         सारा जीवन तुझ पर वारा है |

                                                               श्रीकुमार गुप्ता






2 comments:

  1. Chhoti-see,pyaree-see rachana!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब .. जिसक प्रेम करो उस पर सबकुछ वारना ही चाहिए .... अच्छा लिखा ऐ ...

    ReplyDelete