Thursday, May 13, 2010

JAB SE TUMKO CHAHA HAI

                                                                                                                       
जब से तुमको चाहा है....

जब से तुमको चाहा है ,
जीवन से बहुत कुछ पाया है || 
                   {१} 
एक आस के जीवन साथ जियें ,
एक आस की सुख दुःख साथ सहें ,
हे प्राण प्रिये जब साथ हो तुम ,
तो क्या इस जग में चाहा है ||
                   {२}
हो दूर गगन के साये में ,
जब मौत मुझे लेने आये ,
फरियाद ये रब से करता हूँ ,
बाहों में तुम्हारी जीना है ,
बाहों में तुम्हारी मरना है  ||
                   {३}
जीवन एक मिट्टी का घर है ,
एक दिन तो इसे भी ढहना है ,
हे , प्राण प्रिये जब साथ हो तो ,
हर जीवन साथ में जीना है ,
हर जीवन तेरे संग जीना है ||
                                    श्रीकुमार गुप्ता 

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...प्रेमरस में पगी हुई...

    ReplyDelete
  2. हो दूर गगन के साये में ,
    जब मौत मुझे लेने आये ,
    फरियाद ये रब से करता हूँ ,
    बाहों में तुम्हारी जीना है ,
    बाहों में तुम्हारी मरना है ||
    Behad sundar!

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया लिखा आपने...पसंद आई आपकी रचना.


    ______________
    'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है !!

    ReplyDelete
  4. ichha ,udgaar our smrpn ki milijuli sundr prstuti.
    bhai bhut bhut bdhai .

    ReplyDelete
  5. prem bhaav ki acchi abhivyakti.

    ReplyDelete