Thursday, April 15, 2010

बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

 
बेसबब बात बढ़ जाएगी ....

न सताना इस नाजुक दिल को ,
न मुस्कुराना चौराहे पे देख के मुझको ,
काफ़िर हूँ मै तेरी सुनी गलियों का ,
बेसबब बात बढ़ जाएगी |

न बिछाना राह में टेसू के फूल ,
एक दिन रंगीनियत पे अंधियारी छा जाएगी ,
किस्मत की लकीरों ने लिखे हैं जीवन में काँटे ,
ह्रदय की धड़कन थम जाएगी | 
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

न बुनना रिश्तों की माला ,
न करना कच्चे वादे ,
न पुकारना घर की मुँडेर से मुझको ,
तुम दिल में समा जाओगी |
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

न रोना बार बार समझाने पर ,
न आना मिलने सुहानी शाम ढले ,
नित् दिन के वो गुलाब के फूल ,
अमावस पे चाँदनी छा जाएगी |
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

न रचाना हाँथों में मेहँदी प्यार की ,
न दिखाना अधूरे सपने ,

बस दिख जाना शाम को रस्ते पर कहीं ,
गली में उजियाली छा जाएगी |
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

न आना बार बार घर पूछने मुझको ,
न देना जन्म दिवस पे प्यारे तोह्फे ,
ख्याल करना न याद करूँ तुमको ,
प्यारी यादें इस दिल में उतर जाएगी | 
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

न लिखना खत प्यार वाले ,
न करना साथ जीने की उम्मीद ,
गर न हुए हम कामयाब ,
मेरी उम्मीदें थम जाएगी |
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

करवटें ले कर कटी है रातें ,
करते हैं साथ जीने मरने के वादें ,
एक आरजू बन मन में रहना ,
ये जान ही निकल जाएगी |
बेसबब बात बढ़ जाएगी .........

न थामना किसी और का हाथ ,
न बसाना किसी और को दिल में ,
दिल में सहेज कर रखा है तुमको ,
कविताओं में मेरी प्रीत अमर रह जाएगी |
बेसबब बात बढ़ जाएगी ............
                                 श्रीकुमार गुप्ता

9 comments:

  1. bahut khoobsurati se dil ke jazbaat likhe hain....sundar rachna...

    ReplyDelete
  2. jajbaato se bhari behad sundar rachna.bahut hi gaharai avam dil se likhi haiyah kavita.
    poonam

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर रचना!

    ;;;;;;;;;;;;;;;;
    'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर करना न भूलें !!

    ReplyDelete
  4. "बेसबब बात बढ़ जाएगी ........."
    बढ़ने दीजिये बात!अभी ये बात है तो बढ़ने के बाद तो कुछ और ही नजारा होगा!

    बहुत खूब!

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर, शानदार और लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  6. न थामना किसी और का हाथ ,
    न बसाना किसी और को दिल में ,
    दिल में सहेज कर रखा है तुमको ,
    कविताओं में मेरी प्रीत अमर रह जाएगी |
    बेसबब बात बढ़ जाएगी .........
    Bahut achha likha hai..

    ReplyDelete
  7. bahut sunder hai aapki rachanayen .. sthir hoker padhenge ..bahut dhanyvaad

    ReplyDelete
  8. Kya kahe aapki is nayab kavita ke bare main ......its really beautiful,really touchy and kabhi na bhulne wali..

    ReplyDelete