Thursday, March 3, 2016

इंतहा

आज कुछ देर यूँ लगा,
मानो तुम फिरसे,
उन्ही आँखों से,
निहारती हो,

अंगड़ाईयां मानो,
थपकी देकर जगाती है,
और तुम सपनों से,
ऒझ्ल हो जाती हो,
क्या पता शायद,
मै हूँ या वहम।।

फिर भी न जाने क्यों,
हर दस्तक पे,
दिल कचोटता है,
तेरे न होने पे,
हर बार रोता है,

मायूस हूँ थोडा,
बेबसी साथ रखता हूँ,
जेबकतरे बहुत है,
बाज़ार में,
तुम्हे दिल में सहेजे रखता हूँ।

जिंदगी का क्या,
कल हो न हो,
दिल में आज भी,
तेरी तस्वीर रखता हूँ।

"श्री"

No comments:

Post a Comment